आज (रविवार) प्रातः दक्षिणी दिल्ली सांसद श्री रमेश बिधूड़ी के निवास तुगलकाबाद पर आशा वर्कर्स का एक समूह अपनी समस्याओं व वेतन बढ़ोतरी की माॅंगों को लेकर सांसद बिधूड़ी से मिला। इस दौरान आशा वर्कर्स ने अपनी समस्याएॅं पत्र के माध्यम से सांसद बिधूड़ी के समक्ष रखी। जिसके बाद सांसद महोदय ने दिल्ली सरकार से उनकी माॅंगों को पूरा करवाने का आश्वासन देते हुए कहा कि दिल्ली में सेवारत आशा वर्कर्स की राज्य सरकार से वेतन में बढ़ोतरी की माॅंगें वाजिब हैं और हो भी क्यों ना? समाज सेवा के काम में सदैव तत्पर रहने वाली आशा वर्कर बहनें जिन्हें मातृ-शिशु मृत्यु दर कम करने के लिए नियुक्त किया गया था, लेकिन उन्हें सरकार द्वारा कठिन से कठिन कार्य करने के लिए भी बाध्य किया जाता है और वह सहर्ष ही उसे स्वींकार करते हुए तत्पर रहती हैं। आशाओं ने वर्तमान में चल रही कोविड-19 कोरोना महामारी में अपनी जान की परवाह किए बिना अग्रिम कोरोना वाॅरियर्स के रूप में प्रमुखता से काम किया है। परन्तु यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आशा वर्कर्स को पिछले चार माह से दिल्ली सरकार द्वारा प्रोत्साहन वेतन 3 हजार रू0 व कोरोना भत्ता 1 हजार रू0 जो वाकई बहुत कम है का भुगतान भी नहीं किया गया है। इस संदर्भ में दिल्ली आशा वर्कर एसोसिएशन द्वारा कई बार अपनी समस्याओं व वेतन में बढ़ोतरी की माॅंगों को लेकर दिल्ली सरकार से गुहार लगाई गई है, परन्तु सरकार के कानों में जूॅं तक नहीं रैंगी। आशा वर्कर्स के प्रति सरकार के ऐसे नकारात्मक रवैये के कारण उन्होंने अपने कार्य का बहिष्कार किया है, जो कि निंदनीय है। बिधूड़ी ने कहा कि आशा वर्कर्स की माॅंगें उचित हैं, उन्हें न्यूनतम मासिक वेतन मिलना ही चाहिए, इसके लिए मैं उनकी समस्याओं को दिल्ली सरकार के सामने रखूॅंगा और उन्हें पूरा करवाने का प्रयास करूगाॅं।