दक्षिणी दिल्ली सांसद श्री रमेश बिधूड़ी ने अपने लोक सभा क्षेत्र स्थित अम्बेडकर नगर विधान सभा, छत्तरपुर विधान सभा और कालकाजी विधान सभा में कार्यरत आवासीय समिति/आर.डब्ल्यु.ए, धार्मिक संगठन, व गैर राजनैतिक संस्थाओं की सभाएॅं आयोजित कराईं। इस अवसर पर उन्होंने उपस्थित संस्थाओं के लोगों को पिछले 5 वर्ष व मोदी-2 सरकार के 1 वर्ष के एतिहासिक निर्णयों व कार्यों की विस्तार से जानकारी दी और कोरोना जैसी भंयकर बीमारी पर सरकार द्वारा उठाए गए कदमों पर विस्तार से चर्चा की। इसके पश्चात सभी संस्थाओं के पदाधिकारियों को सेनेटाइजर व फेस कवर वितरित किए गए।
इन सभाओं में बिधूड़ी ने अपने सम्बोधन में कहा कि देश में मोदी जी की सरकार के सफलतम छः वर्ष पूर्ण हुये हैंै। 2014 में जब श्री नरेन्द्र मोदी जी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तब कहा था, यह सरकार गरीब कल्याण के लिये एवं गरीबों को समर्पित सरकार होगी। जो देश के जनमानस ने भली-भांति देखा है कि मोदी सरकार गरीब की आवश्यकताओं और आकांक्षाओं पर पूरा उतरी है। जिसके फलस्वरूप 2019 में देश की जनता ने प्रचण्ड बहुमत देकर पुनः सेवा का मौका दिया। बिधूड़ी ने बताया की आजादी के 65 साल बाद भी देश के गाॅंव बिजली से वंचित थे, लेकिन मोदी सरकार ने 5 वर्षों में 20 हजार गाॅंवांे को रोशन कर 2.5 करोड़ घरों तक बिजली पहॅुंचाने का काम किया। देश में गरीब मजदूर किसान, कमजोर तबके के लोग जो बैंक सुविधा से दूर थे ऐसे 38.89 करोड़ लोगों के जीरो बैलेंस पर खाते खुलवाए, जिससे कि केन्द्र सरकार की योजनाओं का लाभ सीधे उनके खाते में पहॅुचे और बीच में भ्रष्टाचार पर लगाम लगे। आज वैश्विक कोरोना महामारी के वक्त में जब गरीबों पर आर्थिक संकट आया है तो उन तक पैसा पहॅुचाने में सरकार को कोई कठिनाई नहीं हुई और गरीब के जनधन खातों में आर्थिक मदद पहॅुंचा दी गई, यह हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी की दूरदर्शिता के कारण ही संभव हो पाया। उज्जवला योजना के अंतर्गत 8 करोड़ माताओं को गैस सिलेंडर (एवं मुफ्त चूल्हे) दिये गए, जिससे कि वह धुऐं वाले चूल्हों से निजात पा सकें और टीबी जैसी जान लेवा व फेफडों की बीमारियों से बच सकें, आज गरीब के घरों से धुंआ गायब है। 10 करोड़ घरों में शौचालय बनवाये जिससे मातायें-बहनें अच्छे स्वास्थ्य के साथ सम्मान से अपना जीवन जी सकें, उन्हें खुले में शौच जाने से मुक्ति दिलवाई। आयुष्मान भारत योजना से देश के 50 करोड़ लोग लाभांवित हो सकते हैं और एक वर्ष में 5 लाख रूपये तक अपना मुफ्त इलाज करा सकते हैं। इस योजना से अब तक लगभग 1 करोड़ लोग लाभांवित हो चुके हैं, परन्तु दिल्ली में केजरीवाल सरकार की गलत नीतियों के कारण 2015 से जनवरी 2020 तक आयुष्मान योजना का लाभ दिल्ली की जनता को नहीं मिल सका, क्योंकि दिल्ली सरकार ने राजनीतिक वश इसे लागू नहीं होने दिया। अब फरवरी, 2020 से यह योजना दिल्ली में लागू कर दी गई है। बिधूड़ी ने बताया कि मोदी सरकार ने पिछले एक वर्ष में ऐतिहासिक फैसले लिए जो देश की आजादी के समय से लम्बित थे। उन्होंने बताया कि डाॅ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने ‘कश्मीर देश का अभिन्न अंग है, देश में दो विधान, दो प्रधान, दो निशान नहीं होने चाहिए, कश्मीर जाने के लिए वीजा जैसा पत्र नहीं होना चाहिए इसके लिए बलिदान दे दिया। देश की संसद से पास हुआ कानून सीधा-सीधा कश्मीर पर लागू नहीं हो सकता था। श्री नरेन्द्र मोदी जी व श्री अमित शाह जी के नेतृत्व में भारत के संविधान में संशोधन कर भारत की संसद ने अनुच्छेद 370 व 35-ए को हटाया और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बन सका। मुस्लिम महिलाओं को सम्मान दिलाने के लिए तीन तलाक की कुप्रथा को खत्म कर संसद से मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक पास कराया व मुस्लिम महिलाओं को सशक्त किया। सांसद ने अयोध्या में राम मन्दिर पर कहा कि भगवान श्री राम करोड़ो हिन्दुओं की आस्था के प्रतीक हैं। अयोध्या में जहां भगवान राम का जन्म हुआ वहीं पर मन्दिर बने इसके लिए 50 वर्षों से अधिक से कोई में मुकदमा चल रहा था। मोदी सरकार ने कोर्ट में अपना स्पष्ट पक्ष रखा, कोर्ट ने अयोध्या में श्री राम मंदिर बनने का मार्ग प्रशस्त किया। मोदी सरकार ने कोर्ट के निर्देशानुसार मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट का गठन किया जिससे अब मन्दिर निर्माण का कार्य प्रारंभ हुआ है, क्योंकि मोदी है तो मुमकिन है।

इस दौरान व्यवस्था प्रमुख व निगम पार्षद श्री दीपक जैन, अम्बेड़कर नगर विधान सभा से श्री सतेन्द्र चैधरी पूर्व निगम पार्षद, श्री खुशीराम पूर्व मेयर, श्री सुरेश खंडैलवाल निगम पार्षद, छत्तरपुर विधान सभा से श्री रणवीर अनीता तंवर निगम पार्षद, श्री ईश्वर प्रधान, श्री कमल यादव, श्री जगदीश लोहिया, श्री रविन्द्र लोहिया, कालकाजी विधान सभा से श्री राजपाल सिंह निगम पार्षद, श्री मनोज गर्ग, श्री गोपाल, श्री अरूण बैसला, श्री सुरेन्द्र, नीतू पुरी व श्री विजय शर्मा सहित भाजपा के कार्यकर्ता उपस्थिति थे।